Type something and hit enter

By On
advertise here
                                          

                        Chaitra Navratri 2019


हिंदू धर्म का नया साल चैत्र नवरात्र से शुरू होता है। इस साल चैत्र नवरात्र 6 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं।


Funwale navratri special




Navratri Date April 2019

•पहला नवरात्र 6 अप्रैल शनिवार को 
•दूसरा नवरात्र 7 अप्रैल रविवार को 
•तीसरा नवरात्र 8 अप्रैल सोमवार को
•चौथा नवरात्र 9 अप्रैल मंगलवार को
पांचवां नवरात्र 10 अप्रैल बुधवार को 
•छष्ठ नवरात्र 11 अप्रैल वीरवार को
•सातवां नवरात्र 12 अप्रैल शनिवार को 
•अष्टमी 13 अप्रैल शनिवार को 
•नवमी 14 अप्रैल रविवार को


Navratri 2019 special



पूरे साल में कुल मिलाकर 2 बार नवरात्रि का पर्व आता है। 
चैत्र नवरात्रि    
शारदीय नवरात्रि 

नवरात्रि का महत्व और पूजा विधि अलग है। नवरात्र में देवी मां की आराधना करने से मां भक्तों की मनोकामना पूरी करती हैं। इस दौरान भी मां की पूजा के साथ ही घट स्थापना की जाती है। घट स्थापना का मतलब है कलश की स्थापना करना। इसे सही मुहूर्त में ही करना चाहिए।

नवरात्रि में उपवास के नियमों का पालन करना बहुत जरूरी होता है। इसमें नौ दिनों तक संयम के साथ दिनचर्या रखनी पड़ती है। अष्टमी और नवमी तिथि पर कन्या पूजन किया जाता।
देवी माँ : नव दुर्गा Nine Names Of Devi Nav Durga 

1 शैलपुत्री
2 ब्रह्मचारिणी
3 चन्द्रघंटा
4 कूष्माण्डा
5 स्कंदमाता
6 कात्यायनी
7 कालरात्रि
8 महागौरी
9 सिद्धिदात्री

Navratri special april 2019

नवरात्रि के नौ दिनों में मां के नौ अलग-अलग स्वरूपों की आराधना की जाती है।

 ये नौ स्वरूप इस प्रकार है- मां शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्रि मां


इस चैत्र नवरात्रि पर मां दुर्गा घोड़े पर सवार होकर आएंगी और हाथी पर सवार होकर विदाई लेंगी।


कलश स्थापना का श्रेष्ठ मुहूर्त-




 अतः दिन में 11 बजकर 58 मिनट से 12 बजकर 49 मिनट के बीच अभिजीत मुहूर्त है। एक बात यह है कि इस समय कर्क लग्न है। यह चर राशि है। अतः कलश स्थापना का बहुत शुभ मुहूर्त नहीं माना जा सकता है। अतः प्रातः 06 बजकर 09 मिनट से 10 बजकर 21 मिनट तक कलश स्थापना का सबसे श्रेष्ठ मुहुर्त है। इसके पीछे कारण यह है कि इस समय द्विस्वभाव मीन लग्न रहेगा।


नवरात्रि का विशेष नक्षत्रों और योगों के साथ आना मनुष्यों के जीवन पर खास प्रभाव डालता है। इस बार चैत्र नवरात्रि के पूरे नौ दिनों में चार सर्वार्थ सिद्धि योग, एक रवि पुष्य योग भी बनेगा। 


Click to comment